जलने के कई कारण होते है जैसे गर्म तेल, गर्म पानी,गर्म बर्तन पकड़ने से ,दीवाली पर पटाखे फोड़ने से जल जाते है और किसी रासायनिक पदार्थ बिजली आदि से भी हम जल जाते है महिलाओं के खाना पकाते समय हाथ जल जाते है लेकिन गंभीर रूप से जलने पर संक्रमण को रोकने और घावों को भरने के लिए विशेष देखभाल जरूरी होती है

आजकल के बच्चे शैतानी ,या आग से जल जाने से ,या कोई गर्म चीज को पकड़ने से जल जाते है मामूली रूप से घाव तो समय के साथ ठीक हो जाते है लेकिन गंभीर रूप से जलने पर ,घावों को भरने के लिए अधिक देखभाल जरूरी होती है जलना भी तीन प्रकार का होता है जैसे फर्स्ट डिग्री बर्न,सेकंड डिग्री बर्न,और थर्ड डिग्री बर्न,में बांटा जाता है

1 -इसमें हमारी त्वचा हल्के से लेकर गंभीर रूप तक जल सकती है जब शरीर का कोई पार्ट कम जलता है तो इसे फर्स्ट डिग्री बर्न में रखा जाता है और इसे घर के छोटे से उपाय से ठीक किया जा सकता है
2 – इससे हमारी त्वचा में जलने के बाद घाव सूजन आ जाती है इस कारण हमे तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए
3 – इसमें हमे डॉक्टर के पास जाना पड़ता है इससे हमारी त्वचा काली एवं सुन्न पड़ जाती है और ,आई सी यु में भी भर्ती रहन पड़ता है और जान जाने की भी समस्या रहती है

जलने पर क्या किया उपाय किया जाये

जले हुए स्थान को साफ एवं ठन्डे पानी से धोये
जले हुए स्थान पर कोलगेट या एलोवेरा लगाए जिससे ठंडक महसूस होती है
जले हुए स्थान पर नारियल का तेल लगाएं जिससे जले हुए स्थान पर दाग धब्बे आसानी से चले जाते है
जले हुए स्थान पर गाय का घी लगाए जिससे जले हुए स्थान परआराम मिलता है
अधिक जल जाने पर चिकित्सक को दिखाएँ और उनके कहे मुताबिक दवाई ले
गाजर का रस लगाने से जले हुए स्थान पर आर्म मिलता है
आलू को पीसकर लगाने से भी आराम मिलता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here